श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 2: ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  ईश अनुभूति का प्रथम सोपान
 
अध्याय 2:  हृदय में भगवान्
 
अध्याय 3:  शुद्ध भक्ति-मय सेवा : हृदय-परिवर्तन
 
अध्याय 4:  सृष्टि का प्रक्रम
 
अध्याय 5:  समस्त कारणों के कारण
 
अध्याय 6:  पुरुष सूक्त की पुष्टि
 
अध्याय 7:  विशिष्ट कार्यों के लिए निर्दिष्ट अवतार
 
अध्याय 8:  राजा परीक्षित द्वारा पूछे गये प्रश्न
 
अध्याय 9:  श्रीभगवान् के वचन का उद्धरण देते हुए प्रश्नों के उत्तर
 
अध्याय 10:  भागवत सभी प्रश्नों का उत्तर है
 
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥