श्रीमद् भागवतम
 
हिंदी में पढ़े और सुनें
भागवत पुराण  »  स्कन्ध 5: सृष्टि की प्रेरणा  » 
 
 
 
 
अध्याय 1:  महाराज प्रियव्रत का चरित्र
 
अध्याय 2:  महाराज आग्नीध्र का चरित्र
 
अध्याय 3:  राजा नाभि की पत्नी मेरुदेवी के गर्भ से ऋषभदेव का जन्म
 
अध्याय 4:  भगवान् ऋषभदेव के लक्षण
 
अध्याय 5:  भगवान् ऋषभदेव द्वारा अपने पुत्रों को उपदेश
 
अध्याय 6:  भगवान् ऋषभदेव के कार्यकलाप
 
अध्याय 7:  राजा भरत कार्यकलाप
 
अध्याय 8:  भरत महाराज के चरित्र का वर्णन
 
अध्याय 9:  जड़ भरत का सर्वोत्कृष्ट चरित्र
 
अध्याय 10:  जड़ भरत तथा महाराज रहूगण की वार्ता
 
अध्याय 11:  जड़ भरत द्वारा राजा रहूगण को शिक्षा
 
अध्याय 12:  महाराज रहूगण तथा जड़ भरत की वार्ता
 
अध्याय 13:  राजा रहूगण तथा जड़ भरत के बीच और आगे वार्ता
 
अध्याय 14:  भौतिक संसार भोग का एक विकट वन
 
अध्याय 15:  राजा प्रियव्रत के वंशजों का यश-वर्णन
 
अध्याय 16:  जम्बूद्वीप का वर्णन
 
अध्याय 17:  गंगा-अवतरण
 
अध्याय 18:  जम्बूद्वीप के निवासियों द्वारा भगवान् की स्तुति
 
अध्याय 19:  जम्बूद्वीप का वर्णन
 
अध्याय 20:  ब्रह्माण्ड रचना का विश्लेषण
 
अध्याय 21:  सूर्य की गतियों का वर्णन
 
अध्याय 22:  ग्रहों की कक्ष्याएँ
 
अध्याय 23:  शिशुमार ग्रह-मण्डल
 
अध्याय 24:  नीचे के स्वर्गीय लोकों का वर्णन
 
अध्याय 25:  भगवान् अनन्त की महिमा
 
अध्याय 26:  नारकीय लोकों का वर्णन
 
 
All glories to saints and sages of the Supreme Lord.
Disclaimer: copyrights reserved to BBT India and BBT Intl.
हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे॥